Google+ Followers

Tuesday, June 13, 2017

कुछ तुम्हारी , कुछ हमारी-यादें बचपन की

  कुछ कुछ याद है मुझे, कुछ कुछ याद है मुझे,
मेरे बच्चों के बचपन के वो अनमोल पल,
स्कूल की परीक्षा ख़त्म होते ही,
वो बक्सों की तैयारी,
नानी -दादी के घर जाने की जल्दी ,
अटरम पटरम सब अटेची में भरना,
कुछ माँ को बता के कुछ छुपा के!
😊😊😊

क्या मज़ा देता था वो,
रेल की खिड़की वाली सीट के लिए,
भाई बहन से झगड़ना,
आौर हर स्टेशन पर कौतुहल से देखना
खाते पीते मैले होकर नानी घर पहुँचना,
नाना नानी का वह पवित्र प्रेम पा कर,
मन का आनन्द से भर जाना!
😊😊😊

कभी आम तो कभी आईसक्रीम ,
कभी पैसे माँगकर विडियोगेम,
दिनभर की धमाचौकड़ी से माँ का परेशान होना,
अौर माँ की पिटाई से बचने के लिए ,
नाना नानी से लिपट जाना।
और फिर दादी को छुप कर दौड़ाना ,
लाड़ प्यार में यूँ ही गरमियों की छुट्टियों का ख़त्म हो जाना!
😊😊😊

चित्रांगदा शरण
13. 06. 2017
All Rights Reserved .

Monday, October 24, 2016

Samay ki Raftar--A Hindi Poem! By Chitrangada Sharan

समय की रफ़्तार 

समय की रफ़्तार को क्या कहिये ,
कुछ मौसम के आने जाने में निकल गया, 
कुछ त्योहारों को मानाने में बीत गया , 
बचा था कुछ और जो , 
किसी के इंतेज़ार में बीत गया।

       चित्रांगदा शरण 24th October, 2016

Monday, July 25, 2016

At Leisure~~~~A Poem!

When we used to long for some leisure~~~
When we used to long for some leisure~~~ |Source
The 'dusk' of life!
The 'dusk' of life! | Source

At Leisure~~~~!

© Chitrangada Sharan, June 2016
All Rights Reserved.
Remember the times;
When we used to long for leisure;
Now I just wish for no leisure;
At the 'dusk' of life's journey;
Why does this happen;
I don't think about the future;
But miss those glorious memories ;
Of the days gone by.
© Chitrangada Sharan
26th July, 2016
All Rights Reserved.

Wednesday, June 8, 2016

Fursat me!

फुरसत  में ----

कभी  ऐसा भी  वक़्त  था ,
फुर्सत  के लिए  तरसते  थे,

आज  ये  आलम  है,
फुर्सत  न  हो, इसके  लिए ,
तरसते हैं  । 

जीवन  की शाम  में, 
क्यों होता है ऐसा ,
आने  वाले  नहीं , 
गुज़रे  हुए  ज़माने  की,
बातें  ज्यादा  याद  आती  है।  
Chitrangada Sharan
8th June, 2016
All Rights Reserved.
Image credit: Google images

Tuesday, March 8, 2016