Google+ Followers

Wednesday, June 8, 2016

Fursat me!

फुरसत  में ----

कभी  ऐसा भी  वक़्त  था ,
फुर्सत  के लिए  तरसते  थे,

आज  ये  आलम  है,
फुर्सत  न  हो, इसके  लिए ,
तरसते हैं  । 

जीवन  की शाम  में, 
क्यों होता है ऐसा ,
आने  वाले  नहीं , 
गुज़रे  हुए  ज़माने  की,
बातें  ज्यादा  याद  आती  है।  
Chitrangada Sharan
8th June, 2016
All Rights Reserved.
Image credit: Google images