Google+ Followers

Friday, February 28, 2014

BAHNEIN!--THE SISTERS!

एक  ही माँ  के आँचल  में  पली ;
एक  ही साथ  खेलीं , एक साथ बढी ;

एक दुसरे  को  बेपनाह  प्यार  किया ;
एक साथ, एक जैसे ही सपने देखे ;

हाँ पर ये भी एक सच है ;
पेड़ों  की  दो शाखों की तरह ;

तक़दीर उन्हें दो विपरीत दिशाओं में ले जाती है;
जो शायद कभी नहीं मिलते है ;

वो प्यार, वो अपनापन ;
वो सपने, वो बचपन ;


बस यादें बन कर रह जाती हैं ;
अकेले में आँखें नम कर जाती हैं। 


Chitrangada Sharan,
28.02.2014
All Rights Reserved.

Image source: Chitrangada Sharan Images

RISHTEY!

रिश्तों  को  सम्भाल  कर रखना ;
रिश्ते  टूट  ना  जाएँ। 

जैसे  दिए  की  कोई टिमटिमाती बाती  हो ;
जैसे नाज़ुक  कलियों की पंखुड़िआ हो;

जैसे  नाज़ुक  कलाइयों  की  चुड़िआं  हो;
जैसे जुलाहे  के  कच्चे  धागे  हो ;

ये  तो शायद जुड़  भी  जाएँ ;
पर  रिश्ते टूटे  तो जुड़  नहीं  पाते;

हाँ, अगर  जुड़ भी जाएँ ;
तो  गांठे  पड़  जाती  हैं। 


Chitrangada Sharan, 28.02.2014
All Rights Reserved.
Image source: Chitrangada Sharan Images

HANDLE WITH CARE!

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                        
  

 Soft like the petals of a flower;
 Fragile like your glass bangles;
Feeble like the flame of a candle;
Delicate like the wings of a butterfly;
Gentle like the thread of the weaver;
----If broken---- 
These might even get repaired;
But nothing can repair the,
---RELATIONS--,
----If broken------;
Even if you make an attempt;
The tangles can easily be visible!
So cherish them like a treasure;
Take care like the flowers in a bouquet;
And handle them with care!
Chitrangada Sharan, 28th Feb. 2014,
All Rights Reserved.                       

Image Source: Chitrangada Sharan Images