Google+ Followers

Wednesday, June 19, 2013

In Thoughts----My Hindi Poem!---SILSILA AANE-JAANE KA----

सिलसिला   आने   जाने   का ----

मौसम    आते    हैं ,   मौसम   जाते    हैं ;
दिन    यूँ    ही    कटते    चले   जाते    हैं 

सुबह    आती   है    तो    शाम   का   इंतज़ार    होता   है ,

रातें    आती    है   तो    सुबह   का   इंतज़ार    होता   है

एक     त्यौहार     बीतता     है     तो ,

दुसरे     के    आने    का    इंतज़ार    होता    है;

लोग   आते   है ,  लोग   चले   जाते   हैं,
बस   एक   हम   हैं,   जो   वहीँ   के   वहीँ   खड़े   रह   जाते   हैं .



Chitrangada Sharan
19th June, 2013
Image source: Chitrangada Sharan
upper image: Google