Google+ Followers

Wednesday, May 20, 2015

MUSHKILEN !


मुश्किलें कुछ इस कदर बढी ---
कि मुस्कुराना भूल गए --------
रोज़ यूँ ही बैठे रहतें हैं , 
नसीब के कदमों के इंतज़ार में---
कहीं आना जाना भूल गए----

क्या दिन थे वो , 
जब हँसते- मुस्कुराते कटते थे दिन-रात ,
कब सुबह हुई, कब शाम ढली ,
खबर ही कहाँ होती थी ,
 अब ये आलम है कि ,
घडी की सुइयों पे टकटकी लगाये बैठे हैं.  

चित्रांगदा शरण 
२० मई , २०१५ 

Chitrangada Sharan 
20th May, 2015
Chitrangada Sharan Images